सबसे ज़्यादा इस्तेमाल होने वाला मैसेंजर ऐप व्हाट्सएप जिसे दुनिया भर में तकरीबन 150 करोड़ लोग इस ऐप के जरिये संदेश भेजते और रिसीव करते हैं। पर अभी हाल ही में व्हाट्सएप को लेकर एक चिंताजनक खबर सामने आई कि इस ऐप की सुरक्षा को लेकर एक कमी के चलते हैकर्स, कॉल के जरिये मोबाइल फोन में स्पाई वेयर डालते थे।

मोबाइल फोन में इस स्पाई वेयर के जाने के बाद हैकर फोन में मौजूद तमाम जानकारियां निकाल सकते हैं। एनएसओ, जो इजरायल की एक फ़र्म है जिसने ये स्पाई वेयर बनाया है। इस फ़र्म पर मिडिल ईस्ट एशिया से लेकर मेक्सिको तक के पत्रकारों और एक्टिविस्ट की जासूसी कर सरकार को खबर देने का आरोप पहले भी लग चुका है।

इस बात का खुलासा फाइननेंशियल टाइम्स ने किया जिसके बाद व्हाट्सएप की सुरक्षा में जो कमी थी उसको ठीक किया गया। पिछले हफ्ते शुक्रवार के दिन व्हाट्सएप का अपडेट तैयार किया गया। कंपनी ने अपने यूजर्स को ऐप अपडेट करने की सलाह दी है। इस खबर के कंपनी के सामने आते ही व्हाट्सएप ने 10 दिन के अंदर ही इसका अपडेट तैयार कर लिया।

फोटो सोर्स: गूगल

फेसबुक ने बयान दिया है कि अभी तक कम लोग ही स्पाई वेयर का निशाना बने होंगे।

स्पाई वेयर बनाने वाली फ़र्म एनएसओ के बारे में जानकारी है कि सबसे पहले यह ग्रुप 2016 में सामने आया था। उस वक़्त पता चला था कि यह फ़र्म यूएई की सरकार के साथ मिलकर लोगों के फोन हैक करता है। पेगास नाम का मशहूर ऐप जिसकी मदद से हैक हुए फोन का कैमरा और माइक्रोफोन ऑन किया जा सकता है वो एनएसओ का ही प्रॉडक्ट है।

कैसे करते हैं हैक?

किसी भी टार्गेट को हैक करने के लिए सबसे पहले उसके यूजर को व्हाट्सएप के जरिये वॉइस कॉल किया जाता था। इसके बाद यूज़र चाहे फोन उठाए या न उठाए, उसके फोन में स्पाई वेयर इन्स्टाल कर दिया जाता था और कॉल लॉग में से वो नंबर भी डिलीट कर दिया जाता है। इसके बाद यूजर को कुछ पता भी नहीं चलता और उसका फोन भी हैक हो जाता है।

वहीं दूसरी तरफ एनएसओ का कहना है कि वो आतंकवाद और अपराध रोकने के लिए लड़ रहे हैं। कंपनी का कहना है कि वो काफी जांच परख कर ऐसे ऐप्स के लिए लाइसेंस जारी करती है। कंपनी में लोगों की सुरक्षा के लिए ही टेक्नॉलजी को तैयार किया जाता है और अगर इसका कोई गलत इस्तेमाल होता है तो कंपनी इस पर तुरंत एक्शन लेती है।

पर अभी इस बात को लेकर पूरी तरह से बातें साफ नहीं हुई हैं कि आखिर कितने लोग अब तक इस स्पाई वेयर का शिकार बन चुके हैं। जो बच गए हैं उनको तो तुरंत व्हाट्सएप अपडेट करने कि सलाह दी गयी है और जो लोग इस हैकिंग का शिकार हो चुके हैं उनको इस अपडेट से कुछ फायदा होगा या नहीं, इस बारे में कुछ नहीं कहा जा सकता।

फिलहाल व्हाट्सएप ने जो अपडेट निकाला है, कहा जा रहा है कि उसके बाद से फोन को स्पाई वेयर के जरिये हैक नहीं किया जा सकता। अब दुनिया भर में डिजिटल ग्लोबलाईज़ेशन हो रहा है। टेक्नॉलजी के चलते हम दुनिया के एक कोने से दूसरे कोने के बारे में जानकारी हासिल कर सकते हैं। लेकिन ये आधुनिक टेक्नॉलजी हमारी निजी ज़िंदगी को कितना सुरक्षित रखती हैं इस बात का अंदाज़ा लगा पाना मुश्किल है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here