इम्पोर्टेन्ट नोट : खबर लिखने से पहले भारत के तमाम मीडिया से आग्रह है कि खबर लिखने से पहले रिसर्च ढंग से कर लिया करिए. जिस पाकिस्तानी लड़की कि मौत को आप खबर बना कर परोस रहे हैं उस लड़की का नाम ‘निमर्ता चांदनी’ है.

पाकिस्तान के सिंध में निमर्ता चांदनी नाम की एक लड़की थी जिसकी मौत हो गयी है. निमर्ता अपने हॉस्टल रूम में मृत पायी गयी है. मौत के बाद से उसके लिए लोग एकजुट हो रहे हैं और उसके लिए इंसाफ की मांग कर रहे हैं. निमर्ता चांदनी हिन्दू लड़की थी जिसकी मौत पाकिस्तान में हुई है और यही वजह है कि वह सुर्ख़ियों में बनी हुई है. वरना यह आम मौका नहीं है जब किसी अन्य देश में किसी की मौत पर हम खबर लिखते हैं.

आपको बता दें कि पाकिस्तान में भी सोशल मीडिया का उपयोग किया जाता है और इस समय वहां के सोशल मीडिया पर जस्टिस फॉर निमर्ता ट्रेंड कर रहा है. पुलिस जांच में जुटी है कि मामला आत्महत्या का है या हत्या का. जिस हालत में लड़की का शव मिला है, लोग हत्या की आशंका जता रहे हैं और निष्पक्ष जांच की मांग कर रहे हैं. अब ज़ाहिर सी बात है अगर पाकिस्तान में हिन्दू लड़की की मौत हुई है तो वो सोये हुए लोग भी जाग गए होंगे, जिन्हें लड़की के परिवार वालों को इंसाफ दिलवाने से ज्यादा मज़ा हिन्दू-मुस्लिम का खेल खेलने में आता है.

निमर्ता चांदनी/फोटो सोर्स फेसबुक
निमर्ता चांदनी/फोटो सोर्स फेसबुक

निमर्ता मेडिकल की छात्र थी. निमर्ता सिंध शहर के घोटकी की रहने वाली थी जहाँ कुछ दिनों पहले ही मंदिर में तोड़-फोड़ की गयी थी. सोमवार को निमर्ता का शव उसके हॉस्टल रूम में चार पाई से बंधा हुआ मिला. उसके गले में कपड़ा बंधा हुआ था और रूम अंदर से लॉक था. पुलिस ने उसके रूम से उसका मोबाइल और उसके अन्य सामान को जांच के लिए भेज दिया है.

निमर्ता, बीबी आसिफा डेंटल कॉलेज में फाइनल इयर की स्टूडेंट थी. इसके साथ ही मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार वह मेडिकल स्टूडेंट के साथ-साथ सोशल ऐक्टिविस्ट भी थी. उसकी मौत के बाद घोटकी में हिन्दू समाज के लोगों ने अपनी-अपनी दुकानें बंद करके विरोध व्यक्त किया है. कुछ दिनों पहले ही भीड़ ने घोटकी जिले में एक प्रिंसिपल की पिटाई कर दी थी. लोगों ने उसकी पिटाई इसलिए की थी क्योंकि उसने ईश निंदा किया था. इसके साथ ही भीड़ ने 3 मंदिरों, स्कूल्स और हिन्दुओं के कई घरों में तोड़-फोड़ की थी.

परिवार वालों का इस मामले में कहना है कि पुलिस इस मामले को आत्महत्या बता कर दबाना चाहती है. निमर्ता के भाई विशाल का कहना है –

प्रारंभिक जांच में पता चला है कि उसकी हत्या की गई है. ये आत्महत्या नहीं है, सुसाइड के मार्क अलग होते हैं. मैंने उसके गले पर केबल के निशान देखे हैं. उसके हाथों पर भी निशान थे. लेकिन उसकी दोस्त ने निमर्ता के गले को दुपट्टे से बंधे होने की बात कही.

निमर्ता चांदनी /फोटो सोर्स फेसबुक

अभी तक पुलिस ने इस मामले में कोई आधिकारिक बयान नहीं दिया है. यहां तक कि पुलिस ने एफआईआर भी दर्ज नहीं की है. इस बीच पीपीपी लीडर निसार खुसरो का कहना है कि शव का पोस्टमार्टम हो चुका है और उसकी रिपोर्ट से पता चलेगा कि मामला आत्महत्या का है या फिर मर्डर का. निमर्ता की मौत के बाद पूरे सोशल मीडिया पर आक्रोश है. पाकिस्तान के पूर्व तेज़ गेंदबाज़ शोएब अख्तर ने भी निमर्ता के इंसाफ की मांग करते हुए एक ट्वीट किया है. अख्तर ने ट्विटर पर लिखा –

बेहद उदास और आहत हूं मासूम छात्रा निमरिता कुमारी की मौत के बारे में सुनकर। उम्मीद करता हूं कि उसे इंसाफ मिले और असली दोषी जल्द पकड़े जाएं। मेरा दिल हर पाकिस्तानी के साथ धड़कता है चाहे वो किसी भी धर्म से ताल्लुक रखता या रखती हो।

पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों के उत्पीड़न की यह घटना कोई नयी बात नहीं है. हाल के दिनों में सिख और हिन्दू लड़कियों के जबरन धर्म परिवर्तन की घटनाएं सुर्ख़ियों में थीं. इसके कुछ ही दिन पहले पाकिस्तान में मंदिरों को क्षतिग्रस्त किया गया था. इन सब मामलों को देखते हुए यही लगता है कि पाकिस्तान में तनाव बहुत बढ़ गया है.                  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here