अब क्रिकेट के फील्ड में नहीं दिखेगा 2011 के विश्व कप का हीरो

एक ऐसा क्रिकेटर, जब खेला धागा खोल कर खेला। जब लड़ा तो मौत (कैंसर) से जीत गया और जब राज किया तो देश के करोड़ जनता के दिलों पर राज किया। अब अगर ऐसा शख्स ये कहे कि मैं क्रिकेट को अलविदा कह रहा हूं तो इस बात पर चर्चा तो होगी ही। भारत के लेफ्ट हैंड बैट्समैन युवराज सिंह ने क्रिकेट को अलविदा कह दिया है। अलविदा कहने का मतलब यह नहीं कि वो हार गया है बस रफ्तार और खेल के बीच थोड़ा पीछे रह गया है। युवराज एक ऐसी शख्सियत हैं जिसने भारत को दो विश्व कप जिताने में अहम भूमिका निभाई है। फिर जब कैंसर जैसी बीमारी से लड़ कर सामने आया तो शायद किसी ने यह भी नहीं सोचा होगा कि युवराज क्रिकेट ग्राउंड में दिखेंगे। लेकिन दिखे भी और उन्होंने इतिहास भी लिखा।

युवराज सिंह, फोटो सोर्स: गूगल
युवराज सिंह, फोटो सोर्स: गूगल

खैर, सोमवार को जब युवराज ने ऐलान किया कि वो मीडिया से रुबरु होना चाहते हैं तो ऐसा लग गया था कि कुछ बड़ा होने वाला है, और हुआ भी। अगर युवराज क्रिकेट को अलविदा कह रहे हैं तो इससे बड़ी बात क्या हो सकती है। अपने सन्यास के बारे में ऐलान करते हुए युवराज ने कहा-

देश की जर्सी में जो कुछ भी किया उसे भूलाया नहीं जा सकता। क्रिकेट के 17 साल के करियर में काफी उतार चढ़ाव आए इसलिए मैने अब आगे बढ़ने का फैसला किया है। इस खेल ने मुझे बहुत कुछ सिखाया है। कैसे लड़ना है और गिर कर कैसे उठना है और आगे बढ़ना है। मैने विश्व कप जीताकर अपनी मां और अपने पिता का सपना पूरा कर दिया है।

एक नज़र करियर पर भी

28 साल बाद भारत को विश्वकप जिताने वाले युवराज ने मुंबई में एक प्रेंस कांफ्रेंस कर संन्यास का ऐलान कर दिया है। लेकिन युवराज का करियर किसी फिल्मी कहानी से कम नहीं। युवराज कभी गिरे, फिर उठे, अपने आप को संभाले और आगे बढ़े। देश के इस हीरे की चमक उसी वक्त दिख गई थी जब भारत साल 2000 में श्रीलंका में अंडर-19 विश्व कप जीता था। लेकिन बस इंतजार था तो कुछ सालों का। उस समय कप्तान मोहम्मद कैफ की कप्तानी में जो भारत अंडर-19 का विश्व कप जीता तो उस जीत के हीरो युवराज सिंह ही थे। युवराज मैन ऑफ द सीरीज रहे थे।

केन्या टीम से की थी शुरुआत

युवराज सिंह ने अपने करियर की शुरुआत केन्या के खिलाफ हुए मैच से की थी। अक्टूबर 2003 में जब भारतीय टीम केन्या के लिए रवाना हुई तो उस टीम में युवराज भी थे। सचिन, द्रविड़, गांगुली और कांबली जैसे सितारों के बीच युवराज सिंह भी थे। 3 अक्टूबर को पहले मैच में युवराज की बैंटिंग ही नहीं आ पाई और भारत ने यह मैच 8 विकेट से जीत लिया था। 7 अक्टूबर को हुआ सीरीज का दूसरा मैच। इस मैच में युवराज की बैटिंग आई और युवराज ने उसी वक्त बता दिया था कि देश को एक जबरदस्त लेफ्ट हैंडर मिल चुका है। अपने पहले ही मैच में युवराज ने 83 रनों की शानदार पारी खेली। फिर वहां से शुरु हुआ एक सफर जो 10 जून 2019 को आकर थम गया।

फोटो सोर्स- गूगल

ये है करियर का लेखा-जोखा

युवराज सिंह ने पहला टेस्ट मैच अक्टूबर 2003 में न्यूजीलैंड के खिलाफ खेला था।  पहला टी-20 मैच 2007 में साउथ अफ्रीका के खिलाफ खेला था। अभी तक युवराज ने अपने खेले गए 40 टेस्ट मैच में 1900 रन बनाए हैं जिसमें तीन शतक और 11 अर्द्धशतक शामिल है। युवराज टी-20 के बेहतरीन बल्लेबाजों में से एक थे। 58 टी-20 मैचो में युवराज ने 1177 रन बनाए है जिसमें 8 अर्द्धशतक शामिल है। इंग्लैंड के खिलाफ खेली गई 77 रनों की पारी को कौन भूल सकता है। इस मैच में स्टुअर्ट ब्रॉड की 6 गेंदों पर 6 छक्के लगाए थे। अपनी 304 वनडे पारियों में युवराज ने 8701 रन बनाए। इसमें 14 शतक और 52 अर्द्धशतक शामिल है।

देश के क्रिकेट के लिए युवराज ने क्या किया है इस बात का अंदाजा आप लगा सकते हैं। देश को 2007 में टी-20 विश्वकप और 2011 में वनडे विश्व कप जिताने वाले युवराज सिंह दोनों सीरीज में मैन ऑफ द सीरीज रहे थे। भारत को विश्व कप दिलाने के बाद युवराज लंदन चले गए थे। कहा तो यह भी जाता है कि युवराज को अपने कैंसर होने की खबर विश्वकप के दौरान ही चल गई थी। लेकिन देश और क्रिकेट के लिए प्रेम होने से युवराज ने इसका खुलासा नहीं किया था।

फोटो सोर्स- गूगल

पर जो कुछ भी हो युवराज ने क्रिकेट में वापसी की भरपूर कोशिश की। हालांकि वह इसमें सफल नहीं हो पाए। आईपीएल में उन्होंने कोशिश की पर उन्हें वहां भी निराशा हाथ लगी। आईपीएल में खराब प्रदर्शन के बाद से ही इस बात का अनुमान था कि युवराज सिंह का क्रिकेट करियर अब अपने अंतिम दौर में है। इस बात पर ठप्पा तब लग गया जब 2019 के विश्व कप टीम में युवराज का सलेक्शन नहीं हुआ। साल 2011 वर्ल्ड कप के हीरो और 6 गेंदों में 6 छक्के लगाने वाले युवराज सिंह अब सन्यास ले चुके हैं। ऐसे में हमें लगता है कि हमारे हीरो युवराज सिंह एक बेहतर विदाई डिजर्व करते थे। क्रिकेट के मैदान में आपकी कमी खलेगी युवराज।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here